दुर्गापुर के दो उद्यमी (Entrepreneurs) अध्ययन और  कार्य के लिए देश और विदेश के विभिन्न शहरों में गए।  जैसा कि कई जगहों पर देखा गया है, किराने का सामान, ताज़े फल और ताज़ी सब्ज़ियां, कपड़े, कॉस्मेटिक और दवाइयाँ, अलमारी,फर्नीचर, टेबल - कुर्सी और भी अन्य सामान ऑनलाइन खरीदा जा सकता है। लेकिन उनके अपने शहर (दुर्गापुर) में ऐसी सुविधाएं नहीं हैं। इनसे छुटकारा पाने के लिए दो युवकों ने दुर्गापुर में ऑनलाइन सामान बेचने का कारोबार खोला है।

एक और महत्वपूर्ण कार्य ये किया के ये सामान किसी फैक्ट्री या अंतर्राष्ट्रीय कंपनी से नहीं खरीदते हैं, बल्कि दुर्गापुर में ही स्थित विभिन्न कम्पनियों और दुकानों का सामान ऑनलाइन बेचते हैं। जो अपने देश में ही बना होता है। जिससे इन लोकल दुकानों का भी बहुत फ़ायदा होता है।  ये लोकल दुकानदार अपना सामान आसानी से ऑनलाइन बेच पाते हैं।

समय के साथ, लोग व्यस्त हो रहे हैं। बहुत से लोगों के पास सामान खरीदने के लिए दुकान पर जाने का समय नहीं होता है। घर बैठे किराना से लेकर फर्नीचर तक खरीदने के इस अवसर का उपयोग करें, बहुत सारी चीजें ऑनलाइन बिक्री हो रही हैं। इनके अनुसार “दुर्गापुर शहर में एक बड़ा बाज़ार है। कई निवासियों को 3-5 किमी दूर जाना पड़ता है। दुर्गापुर में अधिकतर लोग नौकरीपेशा हैं, और इनके पास समय की काफी कमी होती है। लोग किराने की दुकान से घंटों के बाद चीजें खरीदना कई के लिए मुश्किल है। यही कारण है कि उन्होंने " ऑनलाइन खरीदारी की वेबसाइट" लॉन्च की”।

दुर्गापुर, बेनचिटी के निवासी दो दोस्त एक निजी कंपनी में काम करते थे। बेनचिटी में दोनों एक साथ रहते हैं। वे पढ़ने और काम करने के बाद बड़े शहरों में गए। जैसा कि हर जगह देखा जाता है, ऑनलाइन किराने (Grocery) की डिलीवरी सेवा शुरू की गई है। लेकिन उनके गृहनगर में ऐसी कोई व्यवस्था नहीं है। उन्होंने 1 जून से कारोबार शुरू किया। उन्होंने आवश्यक वस्तुओं की सूची बनाई और ऑर्डर करने के 120 मिनट के भीतर उन्हें डिलीवरी दिया। इन्होने कारोबार चलाने के लिए दुर्गापुर में सात की एक टीम बनाई गई है। वे घर-घर जाकर सामान पहुंचा रहे हैं। वे कहते हैं, "हम केवल नौकरी या लाभ नहीं कमाना चाहते हैं, बल्कि माँ, बहनों और गृहिणियों के रसोई की हर परेशानियों को खुशियों में बदलना चाहते हैं। हमारी टीम  की कोशिश है कि कामकाजी लोग अपना ज़्यादा से ज़्यादा समय अपने परिवार के साथ  बिताएं। उनके बदले बाजार की खरीदारी हम करके जल्द से जल्द उन तक पहुचायेंगे।”

इसके अलावा, ऑनलाइन खरीदारी पर आकर्षक छूट की पेशकश की जाएगी। बहुत से लोग इस तरह की पहल के बारे में सुनकर खुश हैं। दुर्गापुर स्टील प्लांट के एक पूर्व कर्मचारी सुनीरमल रॉय और उनकी पत्नी बसंती रॉय, शहर के केंद्र के गैर-केम्पानी इलाके में रहते हैं। उन्होंने कहा कि दो बेटों में से एक अमेरिका में रहता है, दूसरा नागपुर में रहता है। घर में और कोई नहीं है। उन्होंने कहा, “हम विशिष्ट ब्रांडों को आर्डर करते  तब धोखा होने का भय रहता है। लेकिन अब सारी चीजें आसानी से घर पर ही मिल सकती हैं और वो भी बिना भय और परेशानी के "।